Why our products are the best

You will find these qualities in all of our products

100% Ayurvedic


All the ingredients are 100% Natural.

Lab Tested

No steroids or chemical is used in Kasakesari.

Asthma

Symptoms

Solution

यह सांस संबंधी रोगों में सबसे अधिक कष्टदायी है। अस्थमा के रोगी को सांस फूलने या सांस न आने के दौरे बार-बार पड़ते हैं और उन दौरों के बीच वह अकसर पूरी तरह सामान्य भी हो जाता है। अस्थमा को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता, लेकिन इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है, ताकि अस्‍थमा से पीड़ित व्यक्ति सामान्य जीवन व्यतीत कर सके। अस्‍थमा के दौरे के दौरान जिन लोगों को कभी-कभी दौरा पड़ता है उसके लक्षण हलके होते हैं और जिन लोगों को लगातार दौरे पड़ते है उनके लक्षण गम्भीर होते है जिनसे जीवन को खतरा हो सकता है।

अस्‍थमा के दौरे के दौरान सूजन के कारण वायु-मार्ग संकरा तथा मांसपेशियों में जकडन आ जाती है। हवा का प्रवाह बंद हो जाने से श्लेष्ण उस संकरे वायु- मार्ग में पैदा हो जाता है। अस्‍थमा के दौरे से फेफड़ों के बड़े वायु-मार्ग प्रभावित होते हैं जिसे ब्रोची (वायु प्रणाली के दो प्रधान कोष्ठों में से एक ) कहते हैं। अस्थमा का इलाज सूजन की रोकथाम और मांसपेशियों को आराम देने पर ही केन्द्रित रहता है।

  • शुरुआती समय में खांसी, सरसराहट और सांस उखड़ने के दौरे हैं इसके सामान्‍य लक्षण।
  • रोगी को सख्त, बदबूदार तथा डोरीदार कफ निकलने की शिकायत होती है।
  • यूं तो दौरे कभी भी पड़ सकते हैं, लेकिन रात को दो बजे के बाद अधिक होती है आशंका।
  • लगातार छींक आती रहती है।
  • लगातार खांसी होती है फिर चाहे व बलगम के साथ हो या उसके बगैर।
  • सांस फूलना, जो व्यायाम या किसी गतिविधि के साथ तेज होती है
  • दमा रोगी को सांस लेनें में बहुत अधिक परेशानी होती है।
  • दमा का दौरा आमतौर पर अचानक शुरू होता है।
  • ठंड के समय या फिर व्‍यायाम करने पर इसके असर तेज होता है। साथ ही गर्मी में भी अस्‍थमा का दौरा अधिक पड़ता है।


100% Ayurvedic, No Side Effects, Wonderful Results

अस्थमा को जड़ से मिटाना है तो अपनाए ये नुस्खे

ये उठाएं कदम

मरीज को दमे की बीमारी से बचने के लिये अपना ध्यान खुद रखने की ज़रूरत सबसे ज्यादा होती है। धूल मिट्टी से दूरी बनाए रखें। अधिकांश समय घर पर ही बिताए। पालतू जानवर से भी जरा दूरी कायम कर ले। सबसे खास बात कि साफ-सफाई का काम बिल्कुल नहीं करें। इससे उड़ने वाली धूल आपकी परेशानी और भी बढ़ा सकती है। धूम्रपान न करें न ही किसी और को अपने आसपास करने दे। डाक्टर के बताए अनुसार हल्का व्यायाम करें। सबसे खास बात कि आप अपना इन्हेलर हमेशा अपने पास ही रखें।

क्या नहीं खाना चाहिए

दूध और दूध से बने पदार्थ अस्थमा की बीमारी में बिल्कुल इस्तेमाल न करे। क्योंकि इन पदार्थों में वसा होती है। शोधकर्ता बताते हैं कि अगर अस्थमा रोगी दूध से बने पदार्थों से परहेज करे तो उनकी आधी बीमारी तो वैसे ही ठीक हो सकती है। साथ ही केला, कटहल, पकाई हुई चुकंदर का सेवन भी न करें। हालांकि आप कच्ची चुकंदर खा सकते हैं। मौसमी फलियों के सेवन से भी बचे।

क्या खाना चाहिए

शहद और काली मिर्च गर्म पानी के साथ लेने से अस्थमा में काफी फायदा मिलता है। साथ ही नीम के पत्ते को शहद में लपेटकर रोजाना सुबह सेवन करना चाहिए। शहद और भीगी हुई मूंगफली सांस की नली में जमने वाले कफ को हटा देती है। इसके अलावा तुलसी के पत्ते शहद और काली मिर्च में भिगोकर चबाए।

चार आसन असरकारक

कुछ विशेष योगासन करने से भी दमा में फायदा मिलता है। हालांकि यह चिकित्सक की अनुमति से ही करे। अनुलोम-विलोम से काफी आराम मिल सकता है। शुरू में इसे तीन मिनट करे औऱ बाद में 10 मिनट तक करना शुरू करें। उत्तानासन से भी दमे की बीमारी में राहत मिलती है। इशवासन सबसे आसान आसन है जो अस्थमा के साथ-साथ तनाव भी दूर करता है। अस्थमा पीड़ित मरीजों के लिए सबसे ज्यादा ज़रूरी चीज है कि वे जागरूक रहें।

सूर्य नमस्कार और आसन

इनसे मरीज के शरीर में संतुलन आता है। जिन लोगों को साइनिसाइटिस यानी नजला और दमा का रोग है, उनमें नासिका छिद्र बंद होने की समस्या को यह दूर करता है। इनसे शरीर के लिए आवश्यक व्यायाम हो जाता है। शरीर के लिए आवश्यक ऊष्मा भी इनसे पैदा होती है। सूर्य नमस्कार से शरीर के भीतर इतनी ऊर्जा पैदा होती है कि इसका निरंतर अभ्यास करने वालों को बाहर की सर्दी प्रभावित नहीं कर पाती।

With Above all Use Kasakesari 10ml Morning 10ml Evening after or before 30 Mins of Meal for wonderful results, Order Online Today.

admin@eazybreath.com

Suman  # 84276-92887

Deepak # 73409-83563

Contact Us

0